Home उत्तर प्रदेश कानपुर की बादशाहीनाका पुलिस बनी अपराधियो के लिए काल ।

कानपुर की बादशाहीनाका पुलिस बनी अपराधियो के लिए काल ।

SHARE

कानपुर में आए दिन हो रही घटनाओं को लेकर समस्त थानों के प्रभारियों को और अधिकारियों ने सजग रहने के निर्देश दिए थे और जीरो टॉलरेंस रेंज नीति अपनाने को कहा था

इसी स्वरूप अपराधों की रोकथाम को लेकर बादशाही नाका पुलिस सक्रिय हो गई थी और बड़े अपराधियों की लिस्ट खंगालने में जुट गई थी इस पर 9 जून 2019 को रात्रि में मुखबिर की सूचना पर एक बदमाश को जैसे ही पुलिस है देखा तो उक्त बदमाश को रोकने के लिए पुलिस ने इशारा किया जिस पर आमिर उर्फ मलाई ने पुलिस पर फायरिंग कर दी जैसे तैसे पुलिस टीम अपनी जान बचाने के लिए इधर-उधर छुपी और बादशाहीनाका प्रभारी सत्यदेव शर्मा उपनिरीक्षक हरीश कुमार ने अपनी टीम व खुद पर हमला होते देख अपनी सरकारी पिस्टल निकालकर अपराधी को गोली चला दी और गोली उसके घुटने के नीचे जा लगे और वह वहां पर लहूलुहान होकर गिर पड़ा और जान की भीख मांगने लगा उसके पास से एक तमंचा व कारतूस बरामदगी की गई और बादशाहीनाका पुलिस प्रभारी सत्यदेव शर्मा ने अपने उच्चाधिकारी को पूरा मामला अवगत कराया

आपको बताते चले कि यह वही बदमाश है जिस पर आए दिन गोकशी लूटपाट मारपीट क्षेत्र में वह आतंक फैलाना एवं अन्य मुकदमे लगते रहते हैं और यह हमेशा फरार ही रहता है बहुत ही कम पुलिस की गिरफ्त में आता है और कई बार जेल भी जा चुका है फिर भी सुधरने का नाम नहीं ले रहा था

आमिर उर्फ मलाई कुली बाजार का रहने वाला है और आतंक का नाम बन चुका था व वह एक गैंग का सदस्य था साथ ही उस पर 22 से अधिक गंभीर मुकदमे विभिन्न थानों में पंजीकृत थे।

प्रभारी निरीक्षक बादशाही नाका सत्यदेव शर्मा को क्षेत्रीय लोगों ने बधाई देते हुए कहा उक्त बदमाश आमिर और मलाइ का क्षेत्र में बहुत आतंक था जिससे बादशाही नाका पुलिस ने उनको बचाया है और बेहतर पुलिसिंग की जानती है और इस पूरे घटनाक्रम से जनता का पुलिस में विश्वास और भी गहरा हुआ है

LEAVE A REPLY