Home उत्तर प्रदेश BARELI : रामगंगा तट पर श्रद्धालुओं ने भक्तिभाव से किया स्नान I

BARELI : रामगंगा तट पर श्रद्धालुओं ने भक्तिभाव से किया स्नान I

SHARE

बरेली – पौराणिक मान्यता है कि ज्येष्ठ शुक्ल दशमी को हस्त नक्षत्र में स्वर्ग से गंगा जी का आगमन हुआ था। ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की दशमी एक प्रकार से गंगा जी का जन्मदिन है। स्कन्द पुराण, बाल्मीकि रामायण आदि ग्रन्थों में गंगा अवतरण की कथा वर्णित है। इस वर्ष 12 जून को गंगा दशहरा का पर्व मनाया जा रहा है। भोर में रामगंगा तट पर श्रद्धालुओं ने भक्तिभाव से स्नान किया। कई साल बाद इस बार 10 विशेष योग बन रहे हैं।
बालाजी ज्योतिष संस्थान के पं. राजीव शर्मा ने बताया कि जिस दिन पूर्वांग में दशमी एवं दस योग हों, उस दिन यह व्रत करना चाहिए। दस योग में ज्येष्ठ मास, शुक्ल पक्ष, दशमी तिथि, बुधवार, हस्त नक्षत्र, व्यतीपात योग, गरकरण, आनन्द योग (बुधवार के दिन हस्त नक्षत्र होने से आनन्द योग बनता है), कन्या राशि का चन्द्रमा और वृष राशि का सूर्य शामिल है। इन दस योगों में से दशमी और व्यतीपात योग मुख्य हैं। शास्त्रो के अनुसार कई वषार्े बाद गंगा जी के अवतरण के समय भी यही 10 योग थे जो इस बार बन रहे हैं। पं. राजीव शर्मा ने बताया कि यह अभीष्ट की सिद्घि का दिन है। इसमें धार्मिक अनुष्ठान, धान, व्रत आदि का गई गुणा अधिक फल इस बार मिलेगा। यह दिन सम्वतसर का मुख माना गया है। इसलिए संकल्पपूर्वक गंगा जी में दस बार गोते लगाकर, गंगा स्नान करके दूध, बताशा, जल, रोली, नारियल, धूपदीप से पूजन करके दान देना चाहिए। इस दिन गंगा, शिव, ब्रह्मा, सूर्य, भागीरथी तथा हिमालय की प्रतिमा बनाकर पूजन करने से विशेष फल प्राप्त होने के साथ दस प्रकार के पापों (तीन कायिक, चार वाचिक, तीन मानसिक) का नाश होता है। गंगा दशहरे को जो वस्तुयें उपयोग में ली जाती हैं, उनकी संख्या दस होनी चाहिए। पूजा में दस प्रकार के पुष्प, दशांग धूप, दस दीपक, दस प्रकार के नैवेध, दस ताम्बूल और दस फल होने चाहिए। परन्तु ब्रह्मणों को दान में दिये जाने वाले यव (जौ) तथा तिल सोलाह-सोलाह मुट्ठी होनी चाहिए भगवती गंगा सर्वपाप हारिनी है। स्नान करते समय गोते भी दस बार लगाये जाने चाहिए। आज के दिन दान देने का विशिष्ट महत्व है एवं आज के दिन आम खाने और आम दान करने का विशिष्ट महत्व है। इस दिन शिवलिंग का पूजन करने एवं रात्रि जागरण करने से अनन्त फल प्राप्त होता है।

रिपोर्टर देवेन्द्र कुमार शर्मा

LEAVE A REPLY