Home आपका शहर चिंतन:भक्ति जीवन का श्रृंगार है भक्ति वो प्रसाधन है जो जीवन के...

चिंतन:भक्ति जीवन का श्रृंगार है भक्ति वो प्रसाधन है जो जीवन के सौंदर्य को बढ़ा देती है:ठाकुर संजीव कृष्ण..

राधे – राधे ॥आज का भगवद् चिंतन ॥
29-12-2020

ये बात तो सत्य है कि भक्त के जीवन में भी दुख बहुत होते हैं लेकिन ये बात भी सत्य है कि प्रभु भक्त के चेहरे पर कभी मायूसी नहीं रहती है।

भक्ति दुख नहीं मिटाती है बस दुख सहने की क्षमता को इतना बढ़ा देती है कि बड़े से बड़ा दुख भी उसके आगे बौना ही नजर आता है। भक्ति जीवन का श्रृंगार है। भक्ति वो प्रसाधन है जो जीवन के सौंदर्य को बढ़ा देता है

प्रभु श्री राम स्वयं माँ शबरी से कहते हैं कि-
भगति हीन नर सोहइ कैसा।
बिनु जल बारिद देखिअ जैसा॥

जैसे बिना जल के बादल शोभाहीन एवं अनुपयोगी हो जाता है, उसी प्रकार भक्तिहीन मानव का जीवन भी समझा जाना चाहिए।

प्रभु चरणों में विश्वास हमारे अंदर की सकारात्मकता को बनाए रखकर हमारे आत्मबल को मजबूत बनाता है। सत्य कहें तो भक्ति ही किसी व्यक्ति के अंदर साहस पैदा करती है। हनुमानजी महाराज ऐसे ही साहसी और बलशाली नहीं बन गये। सच पूछो तो भक्ति के प्रताप से ही वो साहसी औ बलशाली भी बन पाये हैं।

स्वकल्याण और पर सेवा की भावना दृढ़ हो, इसके लिए भी भक्ति महारानी का सुदृढ़ आश्रय अनिवार्य हो जाता है।

संजीव कृष्ण ठाकुर जी
वृन्दावन