Home उत्तर प्रदेश अलीगढ़ अलीगढ़: होम्योपैथीक एसोसिएसन ने हैनिमैन जन्मोत्सव मनाया..

अलीगढ़: होम्योपैथीक एसोसिएसन ने हैनिमैन जन्मोत्सव मनाया..

अलीगढ़ होम्योपैथीक एसोसिएसन ने हैनिमैन जन्मोत्सव मनाया

10 अप्रैल, *विश्व होम्योपैथिक दिवस* के शुभ अवसर पर अलीगढ़ होम्योपैथीक एसोसिएशन ने होम्योपैथी के जन्मदाता *डॉ हैनिमैन का 266 वां जन्मदिन* शहर के वरिष्ठ होम्योपैथ डॉ बी एन पॉल के क्लीनिक पर बेहद सादगी एवं श्रद्धा से मनाया।

कोरोना संक्रमण के लगातार बढ़ते असर को देखते हुए सीमित संख्या में सदस्यों को आमंत्रित किया गया एवं उपस्थित चिकित्सकों ने डॉ हैनिमैन के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की।

अध्य्क्ष डॉ एस के गौड़ ने सभी का स्वागत करते हुए आह्वान किया कि जो कुछ भी डॉ हैनिमैन ने हम सभी को प्रदत्त किया है उसके लिए आने वाली कई पीढियां उनकी ऋणी रहेगी। एकल दवा की महिमा को लोग खोजते हुए आएंगे एवं जो एकल दवा का प्रयोग करने वाले चिकित्सक होंगे उनकी गिनती दुनिया के श्रेष्ठ चिकित्सकों में होगी।

पूर्व सचिव डॉ रविन्द्र सारस्वत ने सभा का संचालन करते हुए कहा कि मास्टर को सबसे बड़ी श्रद्धांजलि यही होगी कि उनके बनाये सिद्धांत को अपनायें और यही किसी होम्योपैथ को श्रेष्ठ की श्रेणी में ले कर जाएगी।

सचिव डॉ रजत सक्सैना ने कहा कि सभी डॉक्टर्स ने पूरे लोकडाउन में कोरोना से बचने की दवा बाँट कर अनेकों लोगों को इससे बचाया एवं यही सच्ची समाज सेवा है।

कोषाध्यक्ष डॉ डी के सिंह ने बताया कि आज के बदलाव में होम्योपैथी काफी कारगर सिद्ध हो रही है एवं लोगों का रुझान भी दिन पे दिन होम्योपैथी के प्रति बढ़ता जा रहा है।

प्रवक्ता डॉ प्रभात दासगुप्ता ने कोरोना के परिपेक्ष्य में होम्योपैथी की भूमिका पर प्रकाश डालते हुए कहा कि डॉ हैनिमैन ने हमे दवाइयों के रूप में ऐसे ऐसे ब्रह्मास्त्र दिए हैं जिनसे मानव जाति को आने वाले समय मे कोरोना जैसी अन्य घातक बीमारियों में भी लाभ मिलेगा।

इस अवसर पर सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि अलीगढ़ प्रशासन से स्मार्ट सिटी अलीगढ़ में *हैनिमैन साहब की एक मूर्ति स्थापित करने हेतु किसी पार्क अथवा चौराहे की मांग की जाएगी।

सर्वसम्मति से यह भी निर्णय लिया गया कि समाज के जिम्मेदार नागरिक एवं फ्रंट लाइन वर्कर होने के नाते कोरोना के लगातार बढ़ते संक्रमण के खतरे को देखते हुए *आगामी 18 अप्रैल को मनाए जाने वाले हैनिमैन जयंती के बड़े कार्यक्रम को फिलहाल स्थगित किया जाता है।*
यह कार्यक्रम कुछ समय उपरांत उचित समय देख ज्ञानवर्धक कार्यक्रम के रूप में मनाया जाएगा।

इस अवसर पर डॉ अशोक वशिष्ट, डॉ सुनील गुप्ता, डॉ मनीष जैन, डॉ
डॉ योगेश गुप्ता, डॉ धीरेश बैनर्जी , डॉ हबीबुल्लाह , डॉ देवेन्द्र वर्मा उपस्थित थे।