Home उत्तर प्रदेश अलीगढ़ संयम,धैर्य,भाप काढ़ा और विटामिन-सी कोरोना से लड़ने के है अचूक हथियार:हकिम संदीप...

संयम,धैर्य,भाप काढ़ा और विटामिन-सी कोरोना से लड़ने के है अचूक हथियार:हकिम संदीप कुमार

संयम, धैर्य, भाप काढ़ा और विटामिन-सी कोरोना से लड़ने के अचूक हथिया

*संक्रमण काल मे नकारात्मकता को त्याग सकारात्मकता की ओर बढें*

हमारी लाख कोशिशों के बाद भी कोरोना संक्रमण दिन-ब-दिन सुरसा की भांति मुंह फैलाता ही जा रहा है। कहा जाता है कि वह इंसान ही क्या जो कठिनाइयों से हार मान ले या फिर समस्याओं के मुंह मोड़ ले। संक्रमित व्यकि ही क्या उसके परिवार को चाहिए कि नकारात्मकता को त्याग कर सकारात्मकता की ओर कदम बढ़ाएं। अच्छा खाएं, अच्छा सोचें।
कोरोना से लड़ने के लिए मास्क लगाना, हाथ धोना, यदि आवश्यक न हो तो घरों से बाहर न निकलना और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना अनिवार्य किया गया है। बढ़ते कोरोना संक्रमण काल में लोग घबराहट के कारण मानसिक रूप से नियंत्रण खो रहे हैं ऐसे में सोशल साइट्स पर कोरोना के प्रति फैल रही भ्रांतियों के कारण भी हल्का, साधारण सा बुखार आने पर लोग तनावग्रस्त होने लगे हैं। ऐसे में जागरूकता, संयम, धैर्य, भाप और विटामिन-सी कोरोना से लड़ने के लिए अचूक हथियार साबित हो रहे हैं।
*भाप भगाएगा कोरोना:*
गले में खराश हो या फिर किसी प्रकार की सूजन या संक्रमण, साधारण भाप लेने से काफी राहत मिलती है। कोरोना संकटकाल में भी भाप लेना काफी लाभदायक साबित हो रहा है। भाप लेने से जहां गला संक्रमण मुक्त रहता है, वहीं श्वसन प्रणाली को भी मजबूती प्राप्त होती है। यदि आप चाहें तो सादा पानी में घरों में प्रयोग होने वाली दालचीनी की लकडी भी डालकर भाप ले सकते हैं। यह सांस की बदबू से भी निजात दिलाने में मुफीद होगी। यदि संक्रमण गले से फेफड़ों तक पहुंच चुका है, तो ऐसे में दिन में चार से पांच बार भाप लेना संक्रमण के लिए अचूक हथियार साबित हो रहा है।

*काढ़ा अचूक हथियार*
प्राचीन काल से ऋषि-मुनियों द्वारा तैयार किया गया काढ़ा का एलोपैथिक चिकित्सा पद्धति में भी अपना स्थान बना हुआ है।यदि एक व्यक्ति के लिए काढ़ा तैयार करना है तो एक बर्तन में दो कप पानी, दो लौंग, दो चम्मच अदरक का रस, एक चम्मच काली मिर्च, चार तुलसी के पत्ते कुछ देर तक उबाल लें। इस मिश्रण में चुटकी भर दालचीनी पाउडर मिलाएं, फिर छानकर प्रयोग में लाया जा सकता है । वर्तमान कोरोना संक्रमण में काढ़ा रामबाण साबित हो रहा है।

*विटामिन सी रोग प्रतिरोधक क्षमता के लिए अचूक दवा*
शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को तेजी के साथ बढ़ाने के लिए आवश्यक है कि भरपूर मात्रा में विटामिन सी शरीर को प्राप्त हो। यदि व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता अच्छी हो तो कोई भी संक्रमण उस पर हावी नहीं हो सकता। ऐलोपैथिक चिकित्सा पद्धति में चिकित्सक टेबलेट सेलिंन और लिम्सी 1000 मिलीग्राम रोज लेने की सलाह दे रहे हैं। यदि आप आंवला, संतरा, नींबू, अनन्नास, मौसमी, कीनू, टमाटर आदि का सेवन करते हैं तो आपको प्रचुर मात्रा में विटामिन सी प्राप्त हो जाएगी। आप दवा के स्थान पर इनमें से कोई भी एक फल रोज खा सकते हैं। वर्तमान का संकट काल में आप दूध की चाय के स्थान पर नींबू की चाय भी इस्तेमाल कर सकते हैं। गिलोय के तने को कूट कर शाम को भिगो दें, फिर प्रातःकाल धीरे धीरे उबाल के छान कर नीम गरम पीने से काफी राहत महसूस की जा रही है।