Home उत्तर प्रदेश अलीगढ़ अलीगढ:नगर निगम के भ्रष्टाचार को लेकर  समाज में गहरा असंतोष:-गौरव शर्मा

अलीगढ:नगर निगम के भ्रष्टाचार को लेकर  समाज में गहरा असंतोष:-गौरव शर्मा

 

अचल सरोवर के सौंदर्यीकरण को लेकर बजरंगदल गंभीर

नगर निगम के भ्रष्टाचार को लेकर  समाज में गहरा असंतोष:- गौरव शर्म

आज अचल सरोवर के सौंदर्यीकरण को लेकर समाज में उभर रहे असन्तोष पर प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए बजरंगदल महानगर संयोजक गौरव शर्मा ने कहा कि अलीगढ़ बजरंगदल अचल सरोवर के सौंदर्यीकरण को लेकर बहुत गंभीर और आशान्वित है। लगातार अचल सरोवर के सौंदर्यीकरण को लेकर संगठन चिंतन में लगा है कि सौन्दर्यीकरण में कोई कमी ना रहे। अचलसरोवर अलीगढ़ ही नहीं अपितु संपूर्ण उत्तर प्रदेश का एक ऐतिहासिक धार्मिक स्थल बने ऐसी बजरंगदल की अभिलाषा है, किन्तु भ्रष्टाचार को लेकर नागर निगम की विद्यमान छवि के कारण जनता में सदैव संदेह बना रहता है, हम चाहते हैं कि इसमें सुधार हो और नगर निगम जनता में अपनी ईमानदार व विकास के लिए प्रतिबद्ध संस्था के रूप में छवि विकसित करें।

नगर निगम अलीगढ़ के अधिकारियों को बजरंगदल अलीगढ़ की अपेक्षाओं को प्रदर्शित करते हुए उन्होंने कहा कि सर्वप्रथम तो समाज में जो अन्य बंधु पर्यावरण स्वच्छता एवं अन्य सामाजिक क्षेत्रों में कार्यरत हैं तथा सिविल इंजीनियरों को अचल सरोवर सौंदर्यीकरण में उनके विचारों को महत्व दिया जाएं। जैसा की सर्वविदित है पुराणों में भी अचलेश्वर मंदिर और सरोवर के प्रमाण हैं भारतीय धर्म शास्त्र के शोधकर्ता डॉ पांडुरंग वामन काणे जिन्हें 1963 में भारत रत्न दिया गया उनके द्वारा भारतीय धर्म शास्त्रों के इतिहास नामक शोध ग्रंथ में इस सरोवर का उल्लेख है। इस प्राचीन हिंदू धार्मिक स्थल की विशेष महत्व है।
उन्होंने आपत्ति व्यक्त करते हुए कहा कि नगर निगम द्वारा आज तक आज तक सौंदर्यीकरण को लेकर कोई जन समिति नहीं बनाई। हिंदू धार्मिक क्षेत्र में किसी प्रकार का कोई गतिरोध ना हो इसके लिए आवश्यक है की स्थानीय लोगों की एक समिति बनाई जाए।
उन्होंने प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि नगर निगम अधिकारियों द्वारा हिन्दू समाज में फूट डालने का काम किया जा रहा है क्योंकि एक महंत के लिए सारे दरवाजे खोल दिए गए हैं, बाकी को कोई भी पूछ नहीं रहा, इस कारण गहरा असंतोष है, जो बजरंगदल अलीगढ़ को स्वीकार नहीं है।
उन्होंने मांग की कि सौन्दर्यीकरण को लेकर जो समिति बनाई जाए, उसमें सरोवर के निकट रहने वाले क्षेत्रीय सामान्य वर्ग हिंदू संगठन, पर्यावरणविदों एवं जनप्रतिनिधि सभी अपेक्षित वर्गों के प्रतिनिधियों को सम्मिलित किया जाए।
साथ ही उन्होंने अपनी आपत्ति दर्ज करते हुए कहा कि अचल सरोवर मे 20 दुकाने निकालकर निश्चित ही सरोवर का दायरा कम होगा जिसकी कोई आवश्यकता नहीं। यह दुकान है नगर निगम केवल इसलिए निकल रहा है जिससे कि आवंटन के समय नगर निगम भ्रष्टाचार कर सके और अधिकारी व अन्य सम्बद्ध लोग अपनी जेबें को भर सके। किन्तु यदि फिर भी दुकानें निकलती है, तो वह हिंदू समाज के व्यक्तियों को ही आवंटित हो इसकी चिंता नगर निगम विशेष रूप से करे। बजरंगदल अलीगढ़ नहीं चाहता कि किसी अन्य सम्प्रदाय का कोई व्यक्ति वहां पर आकर दुकान हासिल करें और फिर धर्मांतरण,लव जिहाद जैसी घटनाएं घटे महिलाओं से छेड़छाड़ हो।
जैसा की सर्वविदित है अचल सरोवर में जो नगर निगम की भूमि है उसमें अतिक्रमण हुए वह अतिक्रमण किसकी सहमति से हुए?कैसे संभव हुए और नगर निगम अलीगढ़ ने किस अधिकारी को इस अतिक्रमण के लिए दंडित किया। अगर कोई व्यक्ति अपने मकान का 2 इंच छज्जा बाहर निकाल ले तो आप उसे गिराने पहुंच जाते हैं उस पर जुर्माना कर देते हैं तो यह अतिक्रमण किस की सहमति से हुए इसका जवाब कौन देगा। यह नगर निगम के भ्रष्टाचार का जीता जागता प्रमाण है वर्तमान में भी अलीगढ़ में नगर निगम की संपत्ति पर तमाम कब्जे हैं आप उन पर भी कार्रवाई करिए या केवल आप मंदिर ही तोड़ना चाहते हैं।

प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से अंतिम बात कहते हुए बजरंगदल महानगर संयोजक गौरव शर्मा ने कहा कि नगर निगम अपने पूर्व के आश्वासनों को भी पूरा नहीं कर सका है और अब एक नया विवाद प्रारम्भ कर दिया गया है, पूर्व में अचलेश्वर मंदिर जो क्षतिग्रस्त हुआ था, उसका समतलीकरण आज तक नहीं हुआ और आगामी कुछ दिनों में सावन मास में वहां श्रद्धालुओं का आना होगा यह अत्यंत चिंताजनक है, अचलेश्वर मंदिर का समतलीकरण तत्काल प्रभाव से किया जाना चाहिए जिसका वायदा पूर्व में नगर निगम द्वारा किया गया है।

*अलीगढ़ से अक्षय गुप्ता की रिपोर्ट*